भाकृअनुप - केन्द्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान

ISO 9001 : 2008 प्रमाणित संस्थान

साइट्रस कोलोसिन्थिस से उत्पाद
परिरक्षणः
केन्डीः मिष्ठान्न में व्यापकतः प्रयोग
अचारः औषधी के रूप में कार्य करता है प्रोटीन की प्राप्ति, प्रतिरोधक खनिज और विटामिन की प्राप्ति भुने बीजः मुँहसाफ (माउथफ्रेसनर) करने हेतु प्रयोग, दुर्गन्ध को कम करता है।
:
चुर्ण :
तुरन्त भूख बढ़ाने वाला, एसिडिटी और कब्ज कम करता है।
बीज-केक : दुधारू जानवरों हेतु अच्छा खाद्य स्त्रोत, पौधों हेतु खनिज पौषक तत्वों का अच्छा स्त्रोत

सल्वाडोरा ओलिओडिस (मीठाजाल) से उत्पाद
पीलू स्क्वेश : इसके फलों से बनाया गया स्क्वेश गर्मी में लू से बचाता है।
पीलू जैम : इसे खाने के रूप में प्रयोग लिया जाता है।
सुखाये पीलू :

खारा-लाना (हेलेक्सीलोन रीकर्वम) से उत्पाद
साजी : पापड़ उद्योग में प्रयोग में ली जाती है।
छोआ : पापड़ उद्योग में प्रयोग में ली जाती है।

ग्वारपाठा से उत्पाद
ग्वारपाठा (अलोई) कोल्ड क्रीम : फटी एडियों हेतु बहुत उपयोगी, सूखी त्वचा हेतु मोइश्वराइज (नमी) का कार्य करता है।
ग्वारपाठा से मोइश्वराइजर : सामान्य और तेलीय त्वचा हेतु उपयुक्त, सर्दी से हुए काले धब्बों को हटाता है।
अलोई जैल : यह एक मोइश्वराइजर है जो गर्मी हेतु उपयुक्त है। इसका निरन्तर प्रयोग करने से त्वचा और बालों की स्थिति में सुधार होता है।
अलोई केन्डी : खाने हेतु उत्पाद है इसमें प्राकृतिक तत्व विद्यमान है।
अलोई जेली : खाने हेतु उत्पाद, प्राकृतिक तत्व विद्यमान
ग्वारपाठा अचार : प्राकृतिक तत्व विद्यमान, एवीपीएस बरकरार

उद्यानिकी पौधों से उत्पादः

आंवला परिरक्षण और केन्डी : चासनी में डाले आंवला फल या बिना चीनी की चाशनी के आंवला को परिरक्षित परिरक्षि्त कर रखा जा सकता है।
स्क्वेश : बेर, अनार, आंवला और करोन्दा के फलों से फ्रूट ज्यूस बनाया गया।
सूखे उत्पाद : बेर, आंवला, अनार, गूंदा और काचरी के सूखे उत्पाद बनाये गये।

बकरी के दूध के उत्पाद
पनीर : नर्म, गठा हुआ, बकरी के दूध की दुर्गन्ध रहित।
कुल्फी : पौषकता से भरपूर उत्पाद, दुर्गन्ध रहित
पेयपदार्थ :स्वास्थ्यवर्धक पेय, पौषकता, खनिज तत्व से भरपूर, आवश्यक विटामिन और प्रोटीन युक्त

अन्य उत्पाद

पूरक खाद्यय बट्टिका : संकेन्द्रित खनिज, विटामिन और प्रोटीन का स्त्रोत, स्थानाधारित विशेष पौषक आवश्यकता को पूरी करता है। पौषक तत्वों की कमी दूर करता है। एक उपयुक्त उत्पाद है।
पूर्ण खाद्य बट्टिका : स्थानीय उपलब्ध चारे का उचित मिश्रण है। पशुओं की पौषक आवश्यकता को पूरी करता है। सूखे क्षेत्रों हेतु आर्थिकतः उपयुक्त।
जैव-संघटक:
किसान शाखा-1 : गर्म माहौल को स्वीकार्य एनाइसोप्ली पर आधारित पाउडर है जो मृदा में उत्पन्न कीट एवं रोगजनक फफूँद, सफेद मक्खी और खेजड़ी जड़ गलन रोग हेतु उपयुक्त है।
मरू सेना :मृदा जनित पौध व्याधियों हेतु प्रभावकारी, स्थानीय ट्राइकोडरमा हार्जिनम से पृथककृत (मरू सेना 1) एस्फरजीलस वरसी कोलर (मरू सेना 2) और बेसीलस फरमस (मरू सेना 3)।
नीम टिकिया : इसे नीम की नीमोली और यूक्यूलिप्टस के तेल से तैयार किया गया। यह खरीफ में फलीदार धान को मृदा जनित बीमारियों यथा दीमक एवं कृन्तक से बचाता है और पौषक तत्व प्रदान करता है।
अलोई निकालने का नया तरीकाः अलोई निकाले जाने हेतु तैयार नये तरीके (पेटेन्ट किया जाना है) से 70% तक अलोई निकाला जा सकता है और इसकी शुद्धता 95% तक (यूएस पेटेन्ट 2003 से अच्छी) है।

Read more

समाचार / घोषणाएँ

          


मुख्य पृष्ठ | साइटमैप | सम्पर्क-सूत्र
आगंतुक:1999 से
Copyright © 2014 भाकृअनुप - केन्द्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान
आईटीआई के पास, लाइट औधौगिक क्षेत्र, जोधपुर 342 003, (राजस्थान) भारत